मुम्बई में हुए ‘होली मिलन समारोह’ में राजस्थानी फनकारों की गूंज


बिसाऊ वेलफेयर ट्रस्ट के कमल पोद्दार द्वारा एक शानदार और यादगार शाम का आयोजन
होली का त्योहार, मुम्बई की माटी और राजस्थान के फनकार…जी हां कुछ ऐसा ही हुआ मुम्बई में पिछली शाम को, जब राजस्थानी लोक गीत की गूंज यहां सुनाई पड़ी।
हर्षउल्लास और रंगों से भरे इस पर्व होली के अवसर पर हर साल की तरह इस साल भी राजपुरिया बाग, विले पार्ले, मुंबई में राजस्थानी फोक और कल्चर को दर्शाता होली मिलन समारोह का शानदार आयोजन किया गया।
इस का आयोजन बिसाऊ वेलफेयर ट्रस्ट, सेवा भारती ट्रस्ट और श्री कमल पोद्दार ने किया था। यह होली मिलन समारोह एक शानदार और यादगार शाम में बदल गई।
मशहूर आर्टिस्ट सीमा मिश्रा और मनोज छपरवाल ने राजस्थानी फोक गीतों से शाम को जगमगा दिया। स्टेज पर जो नृत्य पेश किया गया उसे श्रोताओ ने बेहद पसंद किया। खास तौर पर 500 साल पुराने डफ और गिनधड़ की झंकार से महफ़िल गूंज उठी। उल्लेखनीय है कि लोक संगीत राजस्थानी कल्चर का अभिन्न अंग है। उनके नृत्य प्राचीन भारतीय सभ्यता और संस्कृति की याद दिलाते है।
इस होली मिलन समारोह से जुड़े रौनक अग्रवाल ने बताया कि बिसाऊ वेल्फेयर ट्रस्ट के ट्रस्टी कमल पोद्दार की कोशिशों से यह समारोह सफलता हासिल करता है। मुम्बई में राजस्थान के जो लोग रहते है उनके लिए इस प्रोग्राम का आयोजन हर साल किया जाता है। राजस्थान के बिसाउ के गांधी चौक पर इस समारोह का लाइव शो दिखाया गया और वहां रह कर भी लोगों ने होली मिलन समारोह को एंजॉय किया।


(संतोष राज)