संजय लीला भंसाली की पद्मावती के खिलाफ है अखण्ड राजपूताना सेवासंघ

संघ के प्रतिनिधि मंडल ने संजय लीला भंसाली के सीईओ से मिलकर पद्मावती पर अपनी आपत्ति दर्ज कराई. सीईओ ने फ़िल्म में कोई आपत्तिजनक दृश्य नही दिखाने का आश्वासन दिया।

मुंबई ,सामाजिक संगठन अखंड राजपुताना सेवासंघ के प्रतिनिधमंडल ने गुरूवार को पद्मावती फिल्म के निर्माता संजय लीला भंसाली के सीईओ श्रीमति शोभा संत और उनके सहयोगी सहायक निर्देशक चेतन के साथ मुलाक़ात कर एक ज्ञापन दिया। इसमें मांग की गई है कि फिल्म पद्मावती में किसी तरह की आपत्ति जनक दृश्य नहीं दिखाए जाए जिससे राजपूत समाज को ठेस पहुँचती हो। इस प्रतिनिधिमंडल में अखंड राजपुताना सेवासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्षआर पी सिंह,अजय समशेर सिंह(प्रदेश सचिव एवं प्रवक्ता), मनीष सिंह ( मुंबई प्रदेश महासचिव),आनंद प्रकाश सिंह (मुंबई प्रदेश संगठन महामंत्री),रवि प्रकाश सिंह (शिक्षा समिति अध्यक्ष-मुंबई),अमित सिंह( मुंबई प्रदेश सचिव), बृजेश आर सिंह(युवा उपाध्यक्ष) और नितेश सिंह(प्रमुख काशीमिरा) शामिल थे।

प्रतिनिधिमंडल की मांग पर शोभा संत ने आश्वासन दिया कि फ़िल्म मे किसी तरह की आपत्तिजनक दृश्य नही दिखाई जाएगी। उन्होंने इस संदर्भ में लिखित आश्वासन देने का भरोसा दिया है। उन्होंने आश्वासन दिया कि फिल्म किसी तरह का खिलजी एवं रानी के बीच मे रोमांस या संबंध नही दिखाया जायेगा। राजपूत समाज की मर्यादा और सम्मान से किसी तरह की छेड़छाड़ नही की जायेगी और रानी की गरिमा का ध्यान रखा जायेगा। बता दें कि इससे पहले बुधवार को अखंड राजपुताना सेवासंघ सहित कई अन्य राजपूत समाज से जुड़े संगठनों के प्रतिनिधिमंडल ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस एवं समाज के एकमेव कैबिनेट मंत्री जयकुमार रावल को समाज की महारानी देवी स्वरूप रानी पद्ममिनी के चरित्र पर बनायी जाने वाली फ़िल्म के प्रति असंतोष से परिचय कराते हुए ज्ञापन दिया और मॉग की कि फिल्म पद्मावती को तब तक प्रदर्शित ना कराया जाय जब तक समाज के लोगों को दिखाकर सहमति ना ले लिया जाय।


(शशिकानेत सिंह)