विनोद बच्चन की शादी में जरुर आना

विमल रॉय की फिल्म सुजाता का मशहूर गीत है जलते हैं जिसके लिये तेरी आंखों के दीये इस गीत का सीक्‍वेंस अपने आपमें अनूठा। नायक फ़ोन पर नायिका को गीत सुना रहा है। नायिका की आंखों में आंसू हैं, होंठ कांपते हैं, गला रूंधा नायक के होठों पर मुस्‍कान खेलती है, मंदस्मित है नायक के होठों पर वसंत है, पर यक़ीन मानिये, उसके मन में फाग का दाह धधकता है। नायिका की आंखों में सावन है, लेकिन यक़ीन मानिये, उसके हृदय में बहारों के तराने हैं दोनों के बीच एक बेमाप फ़ासला है, स्‍पेस का फ़ासला भी है और नियति ने जो बंधन सौंपे, वे भी। फ़ासलों की अपनी शिद्दत होती है, कैफियत की रवायत होती है। शायर ने कहा था : ‘फूल भी हों दरमियां तो फ़ासले हुए।’
निर्माता विनोद बच्चन की फिल्म में आपको विप्रलंभ का गीत, विरह का राग मिलेगा और उनकी फिल्मों में ‘दूरियां सौंदर्य का मर्म होती हैं। बॉलीवुड में कंटेन्ट प्रधान फिल्मों पर काम करने वाले निर्माताओं की हमेशा कमी रही है। यहां रुटीन मसाला फिल्मों का निर्माण करके करके ही निर्माता इतिश्री कर देना बेहतर समझते हैं। मौलिक और इनोवेटिव कहानियोंंकी कंगाली के मौजूदा दौर में निर्माता विनोद बच्चन उन नये निर्देशकों के लिये आशा की किरण हैं जो बॉलीवुड में कुछ अलग करना चाहते हैं। आप निर्माता विनोद बच्चन को बॉलीवुड का शोमैन नहीं कह सकते हैं मगर उन्हे नये निर्देशकों को ब्रेक देने के लिये जरुर जाना जाता है। अपनी फिल्म तनु वेड्स मनु में उन्होने आनंद एल राय को बतौर निर्देशक ब्रेक दिया और इस फिल्म के बाद वे ग्लैमर वर्ल्ड में छागये और जिला गाजियाबाद में उन्होने आनंद कुमार को एक बड़ी फिल्म दी।
विनोद बच्चन की खासियत है कि वे जब भी कोई फिल्म बनाते हैं उनकी फिल्में लोगो के दिलों में उतरकर दिमाग को झकझोर देती हैं। पहले आर माधवन तथा कंगना राणावत के साथ फिल्म तनु वेड्स मनू और संजय दत्त,विवेक ओबेराय और अरशद वारसी के साथ फिल्म जिला गाजियाबाद बना चुके विनोद बच्चन की तरोताजा कर देने वाली फिल्म है शादी में जरुर आना।
इस फिल्म के जरिये विनोद बच्चन ने नयी निर्देशक रत्नासिन्हा को बॉलीवुड में पहली ब्रार ब्रेक दिया है। विनोद बच्चन निर्मीत इस फिल्म में राजकुमार राव और क्रिती खरबंदा पहली बार बडे परदे पर एक साथ नजर आयेंगें। रत्ना सिन्हा व्दारा निर्देशित और कमल पांडे व्दारा लिखी हुई फिल्म शादी में जरूर आना का ट्रेलर मंगलवार को मुंबई में लाँच किया गया तो जिसने भी इस ट्रेलर को देखा सबने विनोद बच्चन को बधाई दी। एक बार फिर विनोद बच्चन वही ग्रामीण परिवेश वाली कहानी लेकर आये हैं जिसमें ना तो शहर का ज्यादा तामझाम है और ना ही डिस्को पब का बढ़ता दबाव। इस फिल्म शादी में जरुर आना के ट्रेलर ही फिल्म को लेकर उत्सुकता बढ़ाता है। इस पारिवारिक मनोरंजक फिल्म की शुटिंग इलाहाबाद और लखनऊ में हुई हैं। देश के नागरिक सेवाओं में काम करनेवाले दो प्रेमियों की यह प्रेम कहानी हैं।
सत्तू (राजकुमार) और आरती (कृती) के अरेंज मैरेज और प्यार की कहानी हैं यह फिल्म । राजकुमार राव कहतें हैं, मैं पहली बार निर्माता विनोद बच्चन जी की इस फिल्म में इस तरह का किरदार निभा रहा हूँ। मेरा किरदार सत्तू लखनऊ में रहनेवाला होने की वजह से मैंने वहाँ की बोली भाषा सीख ली। साथ ही, मैंने सिविल सर्विस डिपार्टमेंट में काम करनेवाले मेरे एक-दो दोस्तों से भी वहाँ की कार्यप्रणाली समझने के लिए बातचीत की। इस फिल्म में काम करने का अनुभव काफी मजेदार रहा। क्रिती खरबंदा कहतीं हैं, विनोद बच्चन जी की इस फिल्म की कहानी काफी बेहतरीन हैं। जब रत्ना जी ने मुझे यह कहानी सुनाई, तब मुझे सत्तु और आरती इन किरदारों से प्यार हो गया। विनोद बच्चन जी, राजकुमार, रत्नाजी और पूरी टीम के साथ काम करने का काफी अच्छा अनुभव रहा हैं। रत्ना सिन्हा कहती हैं मैं आभारी हूं कि मुझे विनोद बच्चन जी ने इस फिल्म को निर्देशित करने का मुझे मौका दिया। साफ कहुं तो वे नये निर्देशकों के गॉडफादर हैं।
निर्माता विनोद बच्चन कहतें हैं, मैनें जब यह कहानी सुनी तब मुझे वह काफी पसंद आयी और मैंने यह फिल्म निर्माण करने के बारें में सोचा। मैने हमेशा से ही छोटे शहर की बेहतरीन कहानीयाँ बडे परदे लायीं हैं। शादी में जरूर आना उनमें से ही एक हैं। यह फिल्म 10 नवंबर 2017 को रिलीज होनेवाली हैं। फिलहाल सबको इंतजार है विनोद बच्चन की इस फिल्म शादी में जरुर आना का।


(शशिकांत सिंह)